Most top 10 biggest River in the world दुनिया की दस सबसे बड़ी नदियां

नदियां किसी भी देश के लिए बहोत जरूरी होती है क्योकी कई अलग-अलग सभ्यताओ को बढ़ाने मे इनका बहुमूल्य योगदान रहा है। कई सभ्याताओ का जन्म भी नदियो के किनारे ही हुआ। नदियो को देश की Lifeline कहा जाता अगर ये समाप्त हो गई तो करोड़ो जीवो का अस्तित्व ख़तरे मे आ जाएगा। top 10 की इस list मे नदियो को इनकी लम्बाई के आधार पर रखा गया है। हालाकी नदियो की सटीक लम्बाई बता पाना एक तरह से नामुमकिन है क्योकि इनमे बदलाब होते रहते है और भी कई समस्याए आती है। कई बार तो दुनिया की सबसे लंबी नदियाँ नील और अमेज़ोन को लेकर मतभेद रहे है। तो चलीए जानते है कौन है दुनिया की top 10 सबसे लंबी नदियां

Most top 10 biggest River in the world

 

Amazon – अमेजॉन

अमेजॉन दुनिया की सबसे लंबी नदी है इसकी कुल लम्बाई लगभग 6,992 किलोमीटर है। पौराणिक कथाओ के अनुसार पहले नील नदी को सबसे लंबा माना जाता था लेकिन कुछ समय पहले ब्राजील और पेरु द्वारा किए गए रिसर्च मे अमेजॉन को सबसे लंबा बताया गया। यह मुख्यरूप से पेरु के एडीज पर्वतो से निकलती है और पेरु, ब्राजील, बोलिविया, कोलंबिया और इक्काडोर से होती हुई बहती है व अटलांटिक के महासागर मे जाकर मिल जाती है। अमेजॉन नदी के किनारे नौ देशो के लगभग तीन करोड़ लोग बसते है। यह अमेजॉन के जंगलो को सींचती है जिसे पृकृती का फेफड़ा भी कहते है।

Nile – नील

नील नदी दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी नही है जिसकी लम्बाई लगभग 6853 किलोमीटर है। नील नदी को मिश्र की प्राचीन सभ्यता का उदगम माना जाता है, वे लोग इसे पवित्र नदी मानते थे। नील नदी की शुरुआत अफ्रीका की सबसे बड़ी झील विक्टोरिया से होती है और सहारा मरुस्थल को पार करते हुए भूमध्यसागर मे समा जाती है। यह नदी युगांडा, इथियोपिया, सूडान, मिश्र, केन्या, तंजानिया जैसे ग्यारह देशो मे बहती है। नील नदी को श्वेत नील और नीली नील जैसी सहायक नदिया विशाल बनाती है। अगर नील नदी के चौड़ाई की बात करे तो इसकी अधिकतम चौड़ाई 13 किलोमीटर तक है।

Yangtze –  यांग्त्सीक्यांग

यांग्त्सीक्यांग दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी नदी है जिसकी लम्बाई लगभग 6,300 किलोमीटर है। यांग्त्सीक्यांग की शुरुआत चीन के सीकांग पहाड़ो से होती है और पूर्वी चीन के सागर मे जाकर मिल जाती है। इसके आलावा यह चाइना की सबसे बड़ी नदी है जिसे अन्य कई नामो जैसे चांग ज्यांग या यांग्ज़ी या फिर यांग्त्सी नदी के नाम से जाना जाता है। यांग्सी नदी की प्रमुख चार मिलक्यांग, चुंगक्यांग, सुइनिंग और कयाओलिंगक्यांग सहायक नदिया है। यांग्सी इतनी लंबी होने के बाबजूद पहली ऐसी नदी है जो केवल एक देश मे ही बहती है। यह चाइना के किसानो के लिए वरदान है जिसके कारण इसके जुड़े इलाक़ो मे जबरजस्त खेती होती है।

Mississippi – मिसिसिप्पी

मिसिसिप्पी दुनिया की चौथी सबसे बड़ी नदी है इसकी लम्बाई लगभग 6,275 किलोमीटर है। इसके आलावा यह उत्तरी अमेरिका के महादीप की सबसे बड़ी नदी है। इसकी शुरुआत अमेरिका के मिनेसोटा राज्य की इटास्का झील से होती है व मैक्सिको की खाड़ी मे समा जाती है। मिसिसिप्पी के जल की पूर्ती मिससौरी, रेड रॉक जैसी कई छोटी-बड़ी नदिया करती है। वैसे तो यह अमेरिका और कनाडा मे बहती है लेकिन अमेरिका मे इसका विस्तार 98% है बाँकी का बचा हिस्सा कनाडा के पास है। मिसिसिप्पी नदी का किनारा कभी मूल अमेरिकन आदिवासियों का बसेरा हुआ करती थी जिन्हे मार दिया गया या भगा दिया गया।

Yenisei – येनिसेय

येनिसेय की कुल लम्बाई लगभग 5,539 किलोमीटर है जो इसे दुनिया की पाँचवी सबसे बड़ी नदी बनाती है। यह नदी मंगोलिया के सायन पर्वतो से बहती है और रूस मे प्रवेश कर जाती है जहाँ हजारो किलोमीटर का फासला तय करके आर्कटिक महासागर के कारा समुद्र मे मिल जाती है। येनिसेय को आंगारा, सेलेंग जैसी सहायक नदिया बड़ा बनाने मे मदद करती है। इसके आलावा इसकी अधिकतम गहराई 80 फुट और सामान्य गहराई 45 फुट मापी गई है। येनिसेय का लगभग 3 प्रतिशत हिस्सा ही मंगोलिका के हिस्से मे आता है बाँकी का 97 प्रतिशत हिस्सा रूस के पास है।

Yellow River – पीली नदी या ह्वांगहो

दुनिया की छठवी सबसे लंबी नदी है ह्वांगहो जिसके कुल लम्बाई लगभग 5,464 किलोमीटर है । इसके आलावा यह चीन की दूसरी सबसे बड़ी नदी है, जो पूरी चीन के अंदर ही बहती है। yellow river चीन के कंघाई प्रांत के बायन हर पहाड़ो से निकलती है और चीन के पाँच प्रांतों मे से होती हुई जाती है बोहाई सागर मे विलीन हो जाती है। पीली नदी को चीनी सभ्यताओ का उदगम माना जाता है इसलिए चीन मे इसकी महत्वा है। हालाकी इसे तबाही लाने वाला भी कहा जाता है क्योकी इसने कई बार बाढ़ जैसी समस्याए पैदा की है, कहा जाता है की एक बार बाढ़ ने लगभग 10 लाख लोगो की जान ले ली थी।

Ob-Irtysh  – ओब-इतरिश नदी

ओब-इतरिश नदी दुनिया की सातवी सबसे बड़ी नदी है जिसकी लम्बाई लगभग 5,410 किलोमीटर है। ओब नदी की शुरुआत रूस के अल्ताई क्राय प्रदेश के दो नदियो बिया और कतुन नदी के संगम से होती है और ये दोनों ही नदियां अल्ताई पर्वतो से होती है। ओब नदी को इसकी सहायक नदी इतरिश विशाल बनाती है इसके अलावा और भी छोटी-छोटी नदिया है जो ओब नदी मे जाकर मिल जाती है आखिर मे यह कारा सागर के ओब खाड़ी मे जाकर विलय हो जाती है। यांगत्सी नदी और पीली नदी के बाद यह एशिया की तीसरी सबसे बड़ी नदी बन जाती है। यह रूस, क्जाकस्तान, चाइना और मंगोलिया मे बहती है।

Río de la Plata – रिओ दे ला प्लाता

रिओ दे ला प्लाता दुनिया की आठवी सबसे लंबी नदी है इसकी कुल लम्बाई लगभग 4,880 किलोमीटर है। इस नदी का उदगम दक्षिण अमेरिका मे उरुगवे नदी व पराना नदी के संगम से होता है और इसके बाद आंगे चलकर अटलांटिक महासागर के अर्जेंटीना सागर मे मिल जाता है। स्पेनिश भाषा मे रिओ का मतलब होता है नदी और प्लाता का मतलब होता है चांदी। इसलिए रिओ दे ला प्लाता का अर्थ हुआ चांदी की नदी। रिओ दे ला प्लाता कुल पाँच देशो मे बहती है जिनमे शामिल है ब्राजील, अर्जेंटीना, प्राग, बोलिविया और उरुग्वे। इसके अलावा यह अर्जेंटीना और उरुग्वे के बीच बॉर्डर का काम भी करता है।

Congo – कांगो

कांगो नदी लांबाई के मामले मे दुनिया की नौवी सबसे बड़ी नदी ही जिसके कुल लम्बाई लगभग 4,700 किलोमीटर है। कांगो नदी की शुरुआत अफ्रीका मे लुयालाबा नदी के रूप मे होती है और अटलांटिक महासागर मे ख़त्म होती है। नील नदी के बाद यह अफ्रीका की दूसरी सबसे बड़ी नदी है और 720 फीट के साथ कांगो नदी दुनिया की सबसे गहरी नदी है। यह कुल दस देशो मे प्रावाहित होती है व इसका अधिकांस भाग घने जंगलो से होकर गुजरता है। इसलिए यह कई जंगली जानवरो व दूर्लभ कीड़े-मकोड़ो की जीवन दायनी है। कांगो दक्षिण अमेरिका के अमेजॉन के बाद दूसरे तेज प्रवाह वाली नदी है।

Amur – अमूरनदी

top 10 की इस लिस्ट मे सबसे आखरी स्थान पर अमूर नदी जो दुनिया की दसवी सबसे बड़ी नदी है। इसकी लम्बाई कुल मिलाकर लगभग 4,444 किलोमीटर है। अमूर नदी रूस के पश्चिमी मंचूरिया की पहाड़ियों मे शिल्का नदी और अर्गुन नदी के संगम से 303 मीटर की उचाई पर बनती है। यह नदी रूस, चाइना और मंगोलिया देशो मे बहती है, कई बार रूस और चाइना के विवाद मे यह नदी भी शामिल रही है लेकिन अब कई जगहो पर बार्डर का काम भी करती है। जैसे-जैसे यह पहाड़ियों से निकालकर आंगे बढ़ती है कई छोटी-छोटी सहायक नदिया उसका आकार बढ़ाती जाती है। और अंत मे प्राशान्त महासागर के strait of tartary मे मिल जाती है।

veerendra

I am a Blogger and entertaining content writer on its new think site. we share amazing content regularly on this platform. if you like the article share it on social media with your friends and family.

You may also like...