Top 10 Longest Rivers in India
 
 नदियां इस धरती पर किसी भी सभ्यता के फलने-फूलने की मुख्य वजह रही है इसीलिए इन्हे जीवनदायनी भी कहा जाता है। भारत मे भी नदियों का सर्वाधिक महत्व रहा है क्योकी कई प्राचीन भारतीय सभ्यताओ का विकास नदियों की ही देंन है। आज भी भारत की बहुसंख्यक जनसंख्या नदियों के किनारे ही अपना जीवन निर्वाह करती है। भारत मे मुख्य रूप से चार नदी प्रणालिया या अपवाह तंत्र है। आप अपवाह तंत्र को एक तरह से नदियो का जालतंत्र या Network कह सकते है। नादियों के इस नेटवर्क को दो हिस्सो मे बांटा जा सकता है। जिसमे पहले तो वो नदिया आती है जो हिमालय से बहती है जैसे “सिंधु, गंगा, यमुना, ब्रह्मपुत्र” और दूसरी वो जो प्रायदीपों से निकलती है जैसे “महानदी, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी” आदि। वैसे तो भारत मे सैकड़ो नदिया है पर आज हम जानेंगे भारत के दस सबसे लंबी नदियो के बारे मे ( Top 10 Longest Rivers in India )

Top 10 Longest Rivers in India ( भारत के दस सबसे लंबी नदियां ) 

 
क्रमांक नदी उद्गम भारत में लंबाई (किमी) कुल लंबाई (किमी)
1 गंगा गंगोत्री ग्लेशियर 2525 2525
2 गोदावरी त्र्यंबकेश्वर, महाराष्ट्र 1464 1465
3 कृष्णा  महाराष्ट्र के महाबलेश्वर के पास  1400 1400
4 यमुना यमुनोत्री ग्लेशियर 1376 1376
5 नर्मदा अमरकंटक, मध्य प्रदेश 1312 1312
6 सिन्धु तिब्बत, कैलाश रेंज 1114 3180
7 ब्रह्मपुत्र एंगसी ग्लेशियर (तिब्बत) 916 2900
8 महानदी दक्षिणपूर्वी छत्तीसगढ़ की पहाड़ियाँ 890 890
9 कावेरी तालकवेरी, कर्नाटक 800 800
10 ताप्ती मध्य प्रदेश के मुलताई के पास सतपुड़ा रेंज 724 724

 

1. Ganga River ( गंगा नदी ) : 2525 Km

गंगा भारत की सबसे लंबी नदी ( longest rivers) है। इसे भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी भी माना जाता है। गंगा नदी की लंबाई लगभग 2525 Kilometer है। जो की हिमालय की पर्वतो से शुरू होकर बंगाल की खाड़ी के सुंदरवन मे खत्म होती है। यह भारत और बंलादेश मे प्रवाहित होती हुई कई उपजाऊ मैदानो का निर्माण करती है जो देश की आर्थिक स्थिती मे अपना योगदान देते है। गंगा की धारा उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे भारतीय राज्यो मे विचरण करती है। भारतीय आस्थाओ से भरी यह गंगा नदी अपने अद्भुत गुणो के कारण जानी जाती है। ब्रिटिस काल मे अंग्रेज़ लंबी चलने वाली समुद्री यात्राओ मे गंगा नदी का पानी भरकर ले जाया करते थे क्योकी महीनो तक इसका पानी खराब नही होता था। 

2. Godavari River ( गोदावरी नदी ) : 1464 Km

गोदावरी भारत की दूसरी सबसे लंबी नदी है। जिसकी लंबाई लगभग 1464 Kilometer है। यह नदी महाराष्ट्र राज्य के त्र्यंबकेश्वर से उदगम होती है और छत्तीसगढ़, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश से होकर बंगाल की खाड़ी मे मिल जाती है। क्योकी यह दक्षिण भारत की सबसे लंबी व जीवनदायनी नदी है इसलिए इसे ‘दक्षिण की गंगा’ भी कहा जाता है। प्राणहिता, इन्द्रावती, मंजिरा आदि नदियों को गोदावरी की प्रमुख सहायक नदियों मे गिना जाता है। गोदावरी नदी काफी गहरी है, इसकी औसत गहराई 17 फीट (5 मीटर) और अधिकतम गहराई 62 फीट (89मीटर) तक नापी गई है। 

3. Krishna River ( कृष्णा नदी ) : 1400 Km 

कृष्णा नदी भारत की तीसरी सबसे लंबी नदी है। जिसकी शुरुआत महाराष्ट्र के महाबलेश्वर से होती है और कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश से होती हुई लगभग 1400 Kilometer का सफर तय करती हुई बंगाल की खाड़ी में जाकर गिरती है। इसकी प्रमुख सहायक नदिया कुडाली,वेना,कोयना,पंचगंगा,दूधगंगा,तुंगभद्रा, घाटप्रभा,मालप्रभा, मूसी और भीमा है। कृष्णा नदी का नाम भारत की विवादित नदियो मे आता है इसके पानी के लेकर। इसके अलावा इस नदी का डेल्टा भारत के सबसे उपजाऊ क्षेत्रों में गिना जाता है। कृष्णा मे बने शिवसमुद्रम जलप्रपात को सर्वाधिक मात्रा में जलविधुत पैदा करने के लिए जाना जाता है। 

4. Yamuna River ( यमुना नदी ) : 1376 Km

इस list मे अगले स्थान पर है यमुना जो भारत की चौथी सबसे लंबी नदी है। इसकी लम्बाई लगभग 1376 Kilometer है। यमुना नदी का उदगम उत्तराखंड राज्य के यमुनोत्री नामक जगह से होती है जो दिल्ली, हिमांचल प्रदेश, हरियाणा होते हुए उत्तर प्रदेश तक पहुचती है और प्रयागराज के त्रिवेणी संगम मे गंगा नदी मे विलय हो जाती है। यह नदी गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है।  इस नदी की औसत गहराई 10 फीट (3 मीटर) और अधिकतम गहराई 35 फीट (11 मीटर) तक नापी गई है। 

5. Narmada River ( नर्मदा ) : 1312 Km

नर्मदा नदी भारत की पाँचवी सबसे लंबी नदी है। इसे रेवा नदी के नाम से भी जाना जाता है। नर्मदा नदी की लम्बाई लगभग 1312 Kilometer है । इसका उदगम मध्य प्रदेश राज्य के अमरकंटक नामक स्थान से होती है जो की प्रायद्वीपीय भारत की सबसे बड़ी पश्चिम मे बहने वाली नदी है। नर्मदा को “मध्य प्रदेश की जीवन रेखा” नदी भी कहा जाता है। क्योकी यह कृषी मे अपनी अहम भूमिका निभाती है। हालाकी नर्मदा भारत के तीन राज्यो ( मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात ) मे ही प्रवाहित होती है और  खंभात की खाड़ी, अरब सागर में जाकर मिल जाती है। तवा नदी नर्मदा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है इसके आलावा शेर, शक्कर, दुधी, गंजल साहिल, हिरन, बारना, चोरल , करम और लोहर जैसी महत्वपूर्ण सहायक नदियां भी इनसे आकर जुड़ती हैं।

6. Indus River ( सिंधु नदी ) : 3180 / 1114 Km 

सिंधु भारत की छठवी सबसे लंबी नदी है। इसका नाम एशिया की सबसे लम्बी नदियों में गिना जाता है। जो की पाकिस्तान, भारत और पश्चिम तिब्बत (चीन) मे बहती है। वैसे तो इसकी लम्बाई 3180 kilometer है लेकिन भारत मे 1114 Km का सफर तय करती है। सिंधु नदी का उदगम स्थल तिब्बत के मानसरोवर के पास स्थित सिन-का-बाब जलधारा मानी जाती है। इसकी प्रमुख सहायक नदियां  काबुल (नदी), झेलम, चिनाब, रावी, ब्यास और सतलज नदी है। इसके अलावा गिलगिट, काबुल, स्वात, कुर्रम, टोची, गोमल, संगरआदि अन्य भी सहायक नदियाँ हैं। सिंधु घाटी सभ्यता इसी नदी के किनारे प्राचीन समय मे फल-फूल रही थी। जिन्हे पाँच हजार साल से भी पुरानी सभ्यता मानी जाती है। 

7. Bramhputra ( ब्रह्मपुत्र ) : 916 Km 

ब्रम्हपुत्र भारत की सातवी सबसे लंबी नदी है। इसका उद्गम स्थल तिब्बती पुरंग जिले में स्थित मानसरोवर झील के पास होता है। तिब्बत मे ब्रम्ह्पुत्र कों यरलुङ त्सङ्पो कहा जाता है। इसके अलावा भी इसके कई नाम है जैसे जमुना,  देहांग,  पद्मा आदि। देहांग यह तिब्बत, भारत तथा बांग्लादेश से होकर 2800 kilometer  का लंबा सफर तय करती है। भारत मे इसकी लम्बाई लगभग 916 kilometer ही है। असम मे ब्रम्हपुत्र बहोत चौड़ी हो जाती है कई जगहो पर इसकी चौड़ाई 10 किलोमीटर तक देखी जा सकती है। इसे “असम की जीवन रेखा” भी कहा जाता है। असम में ही नदी की दोनो शाखाएं मिल कर मजुली द्वीप का निर्माण करती है जो दुनिया का सबसे बड़ा नदी-द्वीप माना जाता है। इसके आलावा जब गंगा और ब्रम्हपुत्र नदिया मिलती है तो इसे मेघना धारा कहा जाता है।

8. Mahanadi River ( महानदी नदी ) : 890 Km 

भारत की आठवी सबसे लंबी नदी महानदी कों माना जाता है। जो की छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले के सिहावा नामक पर्वत श्रेणी से निकलती है और 890 kilometer का सफर तय करके बंगाल की खाड़ी मे गिरती है। इसकी प्रमुख सहायक नदिया  पैरी, सोंढुर, शिवनाथ, हसदेव, अरपा, जोंक, तेल आदि है। रुद्री, गंगरेल और हीराकुंड़ इस पर बने प्रमुख बांध है जिसमे  हीराकुंड बांध का जलाशय 55 km की दायरे मे फैला हुआ है। जिसे एशिया के सबसे लंबे कृत्रिम झिलो मे गिना जाता है। हीराकुंड बांध दुनिया का सबसे बड़ा मिट्टी का बांध है। जिसका निर्माण ओडिशा में संबलपुर शहर के पास किया गया है। 

9. Kaveri River ( कावेरी ) : 800 Km

इस लिस्ट पर अगले स्थान पर है कावेरी जो की तमिलनाडू की सबसे बड़ी नदी मानी जाती है। यह नदी कर्नाटक राज्य के कोडागु जिले के तालकवेरी में पश्चिमी घाट की तलहटी से निकलती है और बंगाल की खाड़ी मे समा जाती है। कावेरी नदी की लम्बाई लगभग 800 Km है। कर्नाटक व तमिलनाडु के लिए कावेरी वरदान के समान है क्योकी कृषी मे यह अपना महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। शायद यही वजह है इसके विवादित होने का। दोनों राज्यो मे इसके पानी कों लेकर हमेशा विवाद होता रहता है जिसे कावेरी जल विवाद के नाम से जाना जाता है। कावेरी की प्रमुख सहायक नदिया  सिमसा, हेमावती और भवानी है। इस नदी को दक्षिण की गंगा के रूप में भी जाना जाता है.

10. Tapti River ( ताप्ती नदी ) : 724 Km

Top 10 की इस लिस्ट मे सबसे आखरी स्थान पर है ताप्ती जो की भारत की दसवी सबसे लंबी नदी है। ताप्ती नदी मुख्यरूप से मध्य प्रदेश राज्य के बैतूल जिले के मुलताई मे स्थित सतपुड़ा पर्वतो से निकलती है और मध्य से पश्चिम की तरफ बहती हुई महाराष्ट्र राज्य के खानदेश पठार व गुजरात राज्य मे सूरत के मैदान से होती हुई खंभात की खाड़ी ( अरब सागर ) मे मिलती है। ये उन मुख्य नदियों में से है जो पूर्व से पश्चिम की तरफ बहती हैं। भारत में केवल तीन प्रायद्वीपीय नदियों है जो पूर्व से पश्चिम तक बहती है, जिसमे ताप्ती नदी, नर्मदा नदी और माही नदी शामिल हैं। 

Top 10 Longest Rivers In India- FAQs

Q. – भारत की सबसे लंबी नदी कौन सी है 

Ans – गंगा 

Also read : – 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *